sasur ne mere sath jabardasi chudai ki

ससुर जी ने मुझे जबरदस्ती चोदा

 

ससुर जी ने मेरे साथ जबरदस्त चुदाई की,sasur ne mere sath jabardasi chudai ki,ससुर जी ने मुझे जबरदस्ती चोदा, जबरदस्ती चुदाई

नमस्ते, मेरा नाम महक है. हाँ मेरी सच्ची कहानी है। मैंने इसमें अपने नाम के अलावा कुछ नहीं बदला है। मुझे ये कहानी भेजने में बहुत देर लग रही थी। एक दिन हिम्मत करके मैंने इसे लिखा। और आपके सामने पेश कर रही हूँ। मैं मुंबई की रहने वाली हूं। मेरी उमर 23 साल है. मैं शदिशुदा हुं. और अच्छे घर से हूँ. मेरे पति एक एमएनसी में नौकरी करते हैं। वो काम के लिए अक्सर घर से बाहर रहते हैं। मेरा घर बहुत बड़ा है. जिसमें हम तीन लोग ही रहते हैं। ससुर जी ने मेरे साथ जबरदस्त चुदाई की।

 

मैं मेरे पति और मेरे ससुर। पहले मैं अपने बारे में थोड़ा बता दूं। मैं गोरी और बहुत सुन्दर हूँ। मेरा फिगर का साइज़ 36-28-36 है. मैं एक खुली किताब हूं. शादी के पहले मैंने अपने चचेरे भाई के साथ बहुत मस्ती की थी। हमने बहुत मजे किये थे, पर हमने कभी सेक्स नहीं किया था।

 Didi ki Kutte se Chudai ki Kahani

फ़िर मैं साडी होने के बाद अपने ससुराल चली आई। लेकिन मैं अपनी शादी से खुश नहीं थी। क्योंकि एक तो मेरे पति ज्यादा समय घर पर नहीं रहते थे। और मेरी जवानी की आग को ठीक से नहीं बुझा पाते। इसलिए मैं हमेशा तड़पती रहती थी. ये कहानी तब शुरू होती है। जब मैं शादी के बाद अपने ससुराल आई। तब उस समय मेरी सास भी जिंदा थी। वो बहुत अच्छी थी. और मेरा बहुत ख्याल रखती थी. और मेरे साथ हर तरह की बात शेयर करती थी। अनहोने ही बातो बातो एम एक दिन बतायाया।

 

 

कि मेरे ससुर बहुत ख़राब आदमी हैं। लेकिन ना जाने क्यू वो मुझे अच्छे लगते थे। तब तक हमारे परिवार में सब अच्छा चल रहा था। सिवे मेरे सेक्स लाइफ के. और उस समय मुझे मेरे चचेरे भाई की बहुत याद आती थी। जिसके साथ मैंने मस्ती की है। पर सेक्स नहीं किया था. वो हमेशा ही मुझ पर सेक्स के लिए बहुत जोर देता था। क्योंकि वही मेरे हवस को मिटा सकता था।

 

फिर कुछ दिन बाद अचानक ही मेरी सास की मौत हो गई। और अब परिवार में हम तीन लोग ही बचे थे। हर महीने मेरे पति को ऑफिस के काम से 15 दिनों के लिए बाहर जाना होता। तो मैं और मेरे ससुर घर पर अकेले हो जाते हैं। हमारे घर पर एक नौकरानी थी। जिसके साथ मैं दोपहर में कम ख़तम होने के खराब गप्पे लड़ती। और मेरे सास के मरने के बाद ही. एक महीने में मेरे ससुर मेरे साथ अलग व्यवहार करने लगे। फिर एक दिन मेरे ससुर ने बताया। कि एक दिन मेरे ससुर ने अकेले में उसको पकड़ लिया।

 

और बहुत मुश्किल से छुड़ा कर भागी। फ़िर उसने मेरे शादी के पहले इस घर में क्या होता था। वो सब बताया. उसने वो सब बताया. कि मेरे ससुर मेरी सास को दिन में ही पकड़ का। नंगा करके चोदते थे. और दुःख की बात नहीं है। फिर एक दिन नौकरानी ने बताया की। जब मैं चलती हूं. तो मेरे ससुर मेरी गांड को देखते हैं। तो मैंने कहा - चल तू जा, तू झूठ बोलती है। वो मुझे अपनी बेटी मानता है। फ़िर नौकरानी ने कहा की। वो ऐसा कई दिनों से देख रही है। की वो मेरी गांड को घूर कर देखती है.

 

 

तो मैंने भी मन ही मन सोचा. चलो घर में ही कोई मिल गया। मैंने ध्यान दिया की. ससुर जी अक्सर मेरे नहाने के बाद। बाथरूम में नहाने जाते है। एक दिन मैंने छुपकर देखा की। वो मेरे गिल्ली पैंटी को उठा कर अपने मोटे लंड से रगड़ रही है। और यूज़ चैट कर रहे हैं. तो मैं ये सब देख कर चकित रह गई। मैंने देखा कि जिस तौलिये से मैंने अपने बदन को साफ किया था। ससुर जी उसे सूंघ रहे हैं। और अपने लंड से लगा रहे हैं. तभी मैंने सोच लिया की. इन्हें अपनी या आकर्षित जरूर करूंगी.

 

और उसी दिन से मैंने रोहित मतलब मेरे पति के जाने के बाद। सेक्सी ड्रेस पहन कर अपने ससुर के सामने जाने लगी। वो भी कोई ना कोई बहाने मुझे छुआ करते। एक दिन मैंने सफ़ेद रंग का सूट पहनना था। और अन्दर काले रंग की ब्रा. जो ऊपर से सफ दिख रही थी. और गइल बालो में ससुर जी को चाय देने उनके कमरे में गई। मेरे गइल बालो से टपकता हुआ पानी. मेरे ब्रा पर गिरने लगा.

मामा का मोटा लंड भांजी की छोटी सी चूत में

जैसे मेरे स्तन के आकार और भूरे रंग के मेरे निपल्स। उन्हें सफ दिखायी देने लगे. तो ससुर जी ने मुझे ऊपर से नीचे घूरकर देखा। और उनकी नज़र मेरे स्तन पर अटक गई। वो बोले कि आज तुम बहुत सुंदर लग रही हो। और आज तुमने मुझे तुम्हारी सास की याद दिला दी।

 

फिर मैं उनके पास बगल में बैठ गई. और उनसे सासु जी के बारे में बात करने लगी। बातो बातों में उन्हें अपना हाथ मेरे जंघो पर घुमा दिया। तो मुझे अजीब सी बेचैनी हुई. मेरे हाथ से गरम चाय का कप ससुर जी के जंघो पर गिर गया। जो उनका लंड तक चला गया. फिर मैंने अपने दुपट्टे से उनकी जंघ साफ करने लगी। मेरा हाथ उनका लंड तक पहुँच गया। और मैंने महसुस किया की। वो तन कर खड़ा है. अनहोने झट से मेरा हाथ हटा दिया। और मुझे जाने को बोला. पर शायद उस दिन से उनकी नियत मेरे लिए ख़राब हो गई।

 

अब वो रात में भी मेरे बेडरूम के चक्कर लगाने लगे। और दरवाजे पर कान लगा कर सुनते थे। और मुझे दरवाजे के पीछे से चोरी से देखो। एक दिन रोहित को कुछ दिनों के लिए बाहर जाना था। हमारे समय रात के 10 बजे थे. और अगले दिन रोहित की फ्लाइट थी। मैं ये बात अच्छी तरह जानता था। ससुर जी हम दरवाजे के छेद से देख रहे हैं।

 

तो मैंने रोहित को किस करना शुरू कर दिया। और अपने कपड़े उतार के एकदुम नंगी हो गई। और रोहित ने भी एके करके अपने कपड़े निकल दिये। हमने कुछ देर सेक्स किया. और रोहित जल्दी ही झड़ गया. फिर वो अपने कपडे पहन कर लेट गया। मैंने रोहित को गली दी. कि तुझसे अच्छा तो मैं बाहर किसी कुत्ते से

Previous Post Next Post